मेरी जवानी और सेक्स की प्यास- 4

Xxx गांड चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरी पहचान के लड़के से मेरी सहेली का मन चूत चुदाई से नहीं भरा. उसने अपनी गांड में लंड कैसे डलवाया?

Xxx गांड चुदाई कहानी का पिछला भाग: मेरी जवानी और सेक्स की प्यास- 3

कुछ देर ठोकने के बाद साहिल ने राजसी की पीठ को पकड़ कर अपने सीने से उसकी छाती को चिपका लिया. फिर खुद अपने कूल्हे उठा उठा कर पूरी रफ्तार में राजसी की चूत चोदने लगा.

इसी तरह साहिल ने काफी देर राजसी की चूत फाड़ने के बाद अपना माल उसकी चूत के मुहाने पर गिरा दिया जो टपक टपक कर नीचे चादर पर गिरने लगा।

चूत चुदाई का एक दौर समाप्त होने के बाद राजसी साहिल के ऊपर ही लेट कर उसके होंठों को चूमने लगी और बोली- मुझे तुमसे अपनी गांड का भी उद्घाटन करवाना है.

यह बात सुन कर साहिल ने राजसी को खुद पर से हटाया और उसको अपने लन्ड की तरफ कर दिया।

राजसी समझ गयी कि साहिल के लन्ड को उसको दूसरे दौर के लिए तैयार करना है.
तो वो फिर एक बार से पहले वाले जोश की तरह साहिल के लन्ड को चूसने लगी; जिससे साहिल के लन्ड पे लगे वीर्य को भी वो साफ कर ले गयी.

दो ही मिनट गुज़रे थे कि साहिल का लन्ड फिर से अपने फन फैला कर खड़ा हो गया।

अब साहिल ने फिर से राजसी को बेड पर पटका और उसकी दोनों टांगों को फैला कर टांगों को ऊपर उठा दिया.
वह अपनी जीभ उनकी गद्दे जैसी गांड में घुसा कर चाटने लगा.

कुछ देर में ही राजसी की गांड एकदम गीली हो गयी.
साहिल ने अपने लन्ड एक बार राजसी के मुंह में डाल कर गीला किया और उसकी गांड के छेद पर रख कर एक लंबी सांस खींचा.

जिसके बाद साहिल ने एक ज़ोर का झटका मारा लेकिन लन्ड सरक गया.

तो साहिल ने राजसी से अपनी दोनों टांगों को खुद से पकड़ कर फैलाने को बोला और फिर उसके छेद को देख कर अपना लन्ड सेट किया.
फिर एक ज़ोर का झटका मारा.

अबकी मार साहिल का टोपा राजसी की गांड में घुसा और राजसी दर्द के मारे चिल्लाने लगी.
दर्द भरी चिल्लाहट सुन कर साहिल रुका और फिर देर बाद फिर से धक्का मारने लगा.

अबकी बार हर धक्के में साहिल का थोड़ा थोड़ा लन्ड राजसी की गांड में जा रहा था. उसी तरह राजसी की चीख और आंख से आंसू भी निकलने लगा.
लेकिन राजसी थी बहुत बड़ी रंडी … इतने दर्द के बाद भी उसने साहिल से ना तो अपना लन्ड बाहर निकलने को बोला और न ही रुकने को!

इधर साहिल भी हर धक्के में अपना लन्ड राजसी की गांड में ठूँसता चला जा रहा था.
इस वजह से राजसी की मखमली गांड से अब खून भी आने लगा था.

लेकिन राजसी की गांड फटने के बाद भी साहिल नहीं रुका.
और जब पूरा लन्ड अंदर पर हो गया तो वो अगले ही पल अपनी फूल स्पीड में राजसी की गांड भी चोदने लगा।

कुछ देर तक तो राजसी चिल्लाई और रोई. लेकिन दर्द हल्का होने के वो भी मज़े से आह उफ उफ आह करके अपनी गांड ठुकाई का मज़ा लेने लगी।

थोड़ी देर इसी पोजीशन में चोदने के बाद साहिल ने राजसी को घोड़ी बनाया और फिर खुद घोड़ा बन के उसकी गांड की सवारी करने लगा.
जिसके कुछ देर बाद साहिल ने अपना माल अबकी सारा राजसी को पिला दिया।

अब तक डेढ़ घंटा हो चुका था तो मैंने राजसी को काल करके झूट बोला कि मेरा काम खत्म हो गया है अब मैं घर आ रही हूँ।
ऐसा मैंने इसलिए बोला कि अगर मैं अभी फ़ोन ना करती तो ये दोनों तीसरे राउंड के लिए भी तैयार हो जाते.

इतनी हॉट लाइव चुदाई देख कर अब आगे मैं सह नहीं सकती थी क्योंकि मेरे अंदर की वासना भी अब एकदम तेज़ हो गयी थी.
मुझे अब इन दोनों की लाइव चुदाई देखकर समझ आ गया था कि अब मुझे चुदना कैसे है साहिल से!

मैं इस खेल में अनाड़ी थी लेकिन साहिल का अनुभव देखकर अब मुझे कोई दिक्कत नहीं थी।

अब वो दोनों एक साथ नहाने चले गए.

उतनी देर मैं बाहर निकल गई और कुछ देर बाद फिर से मैं चैनल खोल कर अंदर आयी.

राजसी किचन में चाय बना रही थी तो मैं सीधे उसकी के पास चली गयी.
जानबूझकर अनजान बन कर मैंने पूछा- क्या हुआ? कैसा लगा?

अब उसको थोड़े पता था कि उसकी लाइव चुदाई मैं देख चुकी हूँ।
राजसी बोली- क्या बताऊँ यार … क्या मस्त चोदता है साहिल! एकदम किसी खिलाड़ी चोदू की तरह! और वो उसका मोटा लन्ड! मेरी गांड भी भेद दिया उसने!
और अगले ही पल बोली- यार, आगे भी मुझे इससे चुदवा लेने देना।

अब मैं उसकी बात से और गर्म होने लगी थी तो मैं बात घुमाती हुई बोली- आज जो मिला वो बहुत है. अब कल की कल सोचना! और मेरे लिए भी चाय बना दे.

फिर मैं अंदर कमरे में आ गयी जहाँ साहिल ने राजसी को अभी कुछ समय पहले ठोका था.
इस बेड की चादर भी बदली हुई थी.

तभी तक राजसी चाय लेकर आई.

चाय पीने के कुछ देर बाद वो चली गयी अपने घर!
और अब हम दोनों घर में फिर से अकेले बचे।

कुछ देर बाद मैं खाना बनाने चली गयी.

तभी एक नई कहानी आयी थी अन्तर्वासना साइट पर जिसको मैंने थोड़ा सा ही पढ़ा!

लेकिन अब मेरे अंदर की गर्मी मेरे बस के बाहर हो गयी थी. आज तो मैंने मन ही मन आज साहिल से चुदने का फैसला कर लिया था. आगे जो भी होगा देखा जाएगा.

यही सोच कर तो खाना बनाने के बाद मैं चली गयी नहाने!

नहाकर आज मैंने सेक्सी वाली नाइटी बिना ब्रा और पैंटी के पहन ली जो मेरी जांघों तक थी और ऊपर से कंधों पर बस पतली डोरी से रुकी थी.

नाइटी पीछे से मेरी पीठ खुली थी और उसका गला भी बहुत बड़ा था. लेकिन नाइटी बिल्कुल मेरे फिटिंग की थी जिसमें मेरे पूरे शरीर का आकार साफ दिख रहा था.
आगे से लगभग आधी चूचियाँ लटकी थी. मेरे निप्पल भी साफ उभरे हुए दिख रहे थे.
बस आप यू समझ लो कि मैं थी तो नंगी ही … बस कहने को नाइटी के नाम से मेरे शरीर पर एक कपड़ा था।

अब मैं खाना अंदर लेकर गयी.
तो साहिल ने मुझे बड़े ध्यान से ऊपर से नीचे तक देखा.
मैंने भी जानबूझकर पूरा झुक कर खाना रखा जिससे उसको मेरे आज रात के इरादे समझ आ जायें।

हमने साथ बैठ कर खाना खाया.
उसके बाद हम दोनों साथ बैठ कर पिक्चर देखने लगे.
वो पिक्चर खत्म हुई साढ़े ग्यारह बजे!

उसके बाद हम दोनों सोने लगे.
मैंने कमरे में एक बहुत धीमी रोशनी का बल्ब जला दिया और हम दोनों एक साथ एक ही बेड पर लेट गए।

कुछ देर बाद जब मुझे लगा कि साहिल सो गया है तो मैंने उसकी तरफ अपना मुंह किया.
वो सीधा लेटा था.

जानबूझ कर अंगड़ाई लेते हुए मैंने अपना एक हाथ उसके सीने पर रख दिया.
जब उसकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मैंने अपने पैर को उसके पैरों पर रख दिया.
और फिर धीरे धीरे उसके लन्ड तक ले आयी.

अब जब कुछ देर बाद उसके लंड में हरकत हुई तो मैं समझ गयी कि वो अभी जाग रहा है.

तो मैं जानबूझ कर उसकी तरफ अपनी गांड करके लेट गयी. मैंने धीरे से अपनी नाइटी को गांड तक उठा लिया.
अब यू समझो कि मेरी गांड उसके सामने नंगी थी.

कुछ देर बाद जब उसको ये लगा कि मैं सो गई हूं; तब वो मेरी तरफ घूमा और धीरे से मेरे बिल्कुल चिपक गया.
अब उसका खड़ा लंड मेरी नंगी गांड पर मुझे साफ साफ महसूस हो रहा था.

और शायद वो भी ये जान गया था कि मैं नीचे से नंगी हो चुकी हूं.
अब मैंने आगे से अपने हाथ से धीरे धीरे अपनी नाइटी को और ऊपर उठा दिया. अब बस मेरी चूचियों पर कपड़ा था बाकी मेरा पूरा पेट और चूत नंगी हो गयी थी।

जब कुछ देर तक मेरी तरफ से उसके मुझे लंड सटाने की कोई हलचल नहीं हुई तो उसने पहले तो धीरे से अपना हाथ मेरे हाथ पर रखा. जिसको वह धीरे धीरे सरका कर मेरे पेट पे ले आया.

अब उसने अपने हाथ से मेरे पेट को दबा कर मुझे हल्का सा पीछे करने की कोशिश की जिससे उसका लन्ड मेरी गांड पर ज़ोर से टकराया.
इस हरकत के बाद वो थोड़ा देर शांत हुआ यह जानने के लिए कि कहीं मैं जाग तो नहीं गयी.

लेकिन मेरे जागने के बावजूद मैंने बिना कोई हरकत किये साहिल को ये विश्वास दिलाया कि मैं अभी भी बहुत गहरी नींद में हूँ।

अब वो अपने हाथ को हल्के हल्के से मेरी नाभि और मेरे पेट पे सहलाने लगा.
इधर मेरी हालत बहुत खराब हो रही थी क्योंकि किसी लड़के का पहली बार इस तरह मेरे बदन में स्पर्श मुझे हद से ज़्यादा उत्तेजित करने लगा.

कुछ देर मेरा पेट सहलाने के बाद धीरे धीरे उसने अपना हाथ पेट से हटा कर एकदम से नाइटी के ऊपर से मेरी चूचियों पर रख दिया।

अब तक मेरी चूत गीली हो गयी थी.

वो अब मेरी एक चूची पर धीरे से अपना हाथ फेरने लगा.
लेकिन कुछ देर बाद उसने फिर से मेरे स्तन से अपने हाथ हटा कर मेरे पेट पर रख दिया.

अब वो मेरी नाइटी के अंडर अपने हाथ को मेरे पेट के ऊपर ले जाने लगा. कुछ देर बाद उसने एकदम से मेरी एक नंगी चुची पकड़ ली.
इस वजह से मेरे मुंह से एकदम से सिसकारी निकलने वाली थी. लेकिन मैंने उसको काबू में किया और उसके स्पर्श का मज़ा लेने लगी।

आगे अब उसने मेरे दूसरे स्तन को भी सहलाया. फिर मेरे निप्पल को पकड़ कर सहलाने और हल्का सा दबाने लगा. जिसकी वजह से मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया।

अब कुछ देर मेरे दोनों बूब्स के साथ खेलने के बाद वो अपना हाथ फिर धीरे धीरे नीचे लाने लगा.
तो मैं समझ गयी कि अब मेरी राज़ खुलने वाला है कि मैं सो नहीं रही हूँ.

क्योंकि अब साहिल मेरी चूत छूने जा रहा था. और मेरी चूत पहले से गीली थी।

जैसे ही उसने मेरी चूत पे हाथ लगाया, वो समझ गया कि मैं जाग रही हूँ.
तो उसने मेरी चूत में उंगली करनी शुरू कर दी.

लेकिन फिर भी मैंने अपनी सिसकारियों को होंठ दबा कर खुद के शांत रखा.

तब उसने मेरा कंधा पकड़ कर मुझे सीधी कर दिया. मेरी दोनों टांगों को फैला कर सामने से आकर जैसे ही साहिल ने मेरी चूत पर अपने होंठ रखे, मेरे मुंह से ज़ोर का उफ़्फ़ निकला.

अब तो मैंने साहिल के बालों को कस के पकड़ कर अपनी चूत पे पूरा दबा दिया जिसको वो बहुत मज़े से अपनी जीभ पूरी अंदर डाल कर चूसने और चाटने लगा.
मैं अपनी आंखें भींच कर ज़ोर ज़ोर से आहें भर रही थी- उफ़्फ़ उई मा … आह आह आह उफ़!

सच में बहुत बढ़िया … जिस तरह अश्लील पिक्चर में चूत चाटते हैं, बिल्कुल उसी तरह साहिल मेरी भी चूत चाट रहा था।

कुछ देर मेरी बुर चाटने के बाद उसने मेरे दोनों हाथों को उठा कर मेरी नाइटी उतार फेंकी.
फिर वो मेरे ऊपर आकर अपने होंठों को मेरे होंठों से मिला कर मुझे चूमने लगा.

हम दोनों एक दूसरे को एकदम बेसबरों की तरह चूमने लगे.
साहिल ने मेरी जीभ को भी बहुत चूसा और मैंने भी उसकी जीभ!

इसके बाद उसने मेरे कानों को पहले तो अपनी जीभ से खूब अच्छे से चाटा. और कान चाट लेने के बाद उसने मेरे कान पे एक बार ज़ोर से काट भी लिया.

अब वो मेरे गालों को चूमता और चाटता और कान भी!

आखिर में उसने मेरे दोनों गालों पर अपने दांतों के गहरे निशान छोड़ दिये. इसी वजह से मेरे गाल और कान लाल हो गए.

अब बारी आई मेरे गले की … तो उसने अपने होंठों को गोल किया और मेरे पूरे गले पे, जैसे कोई लकड़ी छीलने के लिए रंदा चलता है, ठीक उसी तरह साहिल ने मेरे पूरे गले को चाटा और चूमा.

आखिर में उसने मेरे गले पर हर जगह बहुत ज़ोर की लव बाईट दिया जिससे मैं चीख पड़ी.
लेकिन मैंने उसको मना नहीं किया ये सब करने से!

अब उसने एक हाथ से मेरी एक चूची पकड़ी. पहले तो मेरे निप्पल पे अपनी जीभ की नोक से खूब चाटा; और फिर मेरी 36″ की मोटी चूची को उसने अपने मुंह में लेकर किसी वैक्यूम क्लीनर की तरह मेरी चूची को अपने मुंह से खींचा.

इसके बाद उसने दूसरी चूची के साथ भी ऐसा किया.

फिर साहिल मेरे दोनों बूबों को पकड़ के दोनों के बीच अपना मुंह डाल कर चाटने लगा.
इसी तरह साहिल ने तकरीबन 10 मिनट तक मेरी चूचियों को चाटा होगा जिससे मेरी पूरी चूची में जलन होने लगी.
साहिल ने इतना दांत से रगड़ा था.

उसने अंत में मेरे पूरे पेट और मेरी नाभि को भी बढ़े अच्छे से चूमा और चाटा.

Leave a comment