मम्मी के साथ चेन्नई यात्रा- 5

मॉम एंड सन सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी मम्मी के साथ होटल रूम में सो रहा था. हम दोनों नंगे थे. बात सेक्स तक कैसे पहुंची और हमारे बीच क्या क्या हुआ?

मॉम एंड सन सेक्स कहानी के पिछले भाग
मम्मी के साथ चेन्नई यात्रा- 4
में आपने पढ़ा कि मैं और मेरी मामी दोनों नंगे होटल के कमरे में एक बेड पर सो रहे थे.

अचानक मुझे मेरे दोस्त का फोन आया।
उसने कहा कि आज सुबह हमारा रिजल्ट आ गया है.

मेरी आवाज सुनकर मम्मी भी जाग गयी।
मम्मी ने कमरे में रोशनी चालू की और पूछा- क्या हुआ, हनी? फोन पर कौन था?
मैं- मेरा रिजल्ट आ गया है मॉम!
नैंसी- तो जल्दी से अपना रिजल्ट देख कर बताओ।

मम्मी अपना मोबाइल फोन मेरे करीब ले आयी। उनका दाहिना कंधा मेरे बायें कंधे को छू रहा था।

उन्होंने मेरा रोल नंबर पूछा। उन्होंने मेरा रिजल्ट खोला और तुरंत वह मुस्कराते हुए मेरे और नजदीक आयी और मेरे गाल पकड़ कर उसको चूम लिया।

नैंसी- मेरा बेटा हमेशा सबसे आगे होता है।

मैं- प्रतिशत क्या है?
नैंसी- तुम्हें 93% मिला है। तुमने बहुत मेहनत की है, हनी। मुझे तुम्हारे पिताजी को बताने दो। वह बहुत खुश हो जाएंगे।

उनका चेहरा खुशी से भर गया था और वह और अधिक सुंदर लग रही थी।
वह पूरी तरह से नग्न वज्रासन में बैठी थी और उनके पैर खुले हुए थे।
मैंने अपना दिमाग पूरी तरह से खो दिया।

उन्होंने डैडी को कॉल किया और कहा- विकी को बोर्ड में 93% मिले हैं।
पापा को बहुत खुशी हुई।

मम्मी ने मुझे फोन दिया और पाप ने मुझे बधाई दी।

मैंने वापस मम्मी को फोन दे दिया। वह बिस्तर से उठ खड़ी हुई और मेरे पिताजी से बात करने लगी। कुछ मिनटों के बाद मम्मी ने फोन कॉल काट दिया।

मैं खड़ा हुआ और उन्हें पीछे से गले लगा लिया। मेरा बड़ा तना हुआ लण्ड उनकी गांड की दरार में जा रहा था और मेरे हाथ उनके स्तन को छू रहे थे।

मम्मी पीछे की तरफ घूम गयी और उन्होंने मुझे गाल पर चूमा।

मैंने धीरे से अपना लंड उनकी चूत पर दबाया।
मुझे यकीन था कि उन्होंने उसे अपनी चूत पर महसूस किया होगा।

वह थोड़ा पीछे हट गई और मेरे लण्ड की तरफ नीचे देखने लगी।

मैं- उफ़! सॉरी मम्मी! मैं खुशी में भूल गया कि हम नंगे हैं।

नैंसी- ठीक है हनी, तुम मेरे प्यारे छोटे बेटे हो. क्या तुम अपनी मम्मा को गले लगाना चाहते हो? इधर आओ।

और उन्होंने अपने हाथ चौड़े कर दिए और मुझे अपने गले लगाने के लिए बुलाया। मैंने उन्हें बहुत कसकर गले लगा लिया।
मेरा कड़क लंड उसकी चूत को छू गया।
मैंने अपने सीने को उनके बूब्स और मेरे लण्ड को उनकी चूत पर दबा दिया।

मम्मी ने भी मुझे मेरे गाल पर चूम लिया।
हम दोनों एक दूसरे को गले लगाकर बिस्तर पर गिर गए।

मम्मी मेरे ऊपर ही गिर पड़ी थी। मैंने थोड़ा उठकर उनके होंठों को चूमना शुरू कर दिया।

मम्मी ने भी मेरा सिर पकड़ लिया और जोर से उसे अपने चेहरे की तरफ खींच लिया। हम कुछ मिनट के लिए एक दूसरे को चूमते रहे।

मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं स्वर्ग में हूं।
उत्तेजना में मैंने अपनी मम्मी के स्तन को छू लिया और मैं थोड़ा घबरा गया।

मैंने उनके चेहरे की तरफ देखा।
वो मुस्कुराई और वापस मेरे हाथ को अपने बूब्स पर रख दिया।

नैंसी- मैं तुम्हारी खुशी को बर्बाद नहीं करना चाहती बेबी। बस जो चाहो वो करो!

मैंने पूरे जोर से उनके स्तन दबाए और मेरी मम्मी ने मेरे होंठों को अपनी जीभ से चाटा।

हमने फिर कुछ मिनट तक एक दूसरे को चूमा।

बाद में मेरी मम्मी मुझसे अलग हो गईं और बिस्तर पर लेट गईं।
उन्होंने अपने दोनों हाथ उठाकर कहा- चलो हनी, मम्मा के ऊपर सो जाओ।

मैं उनके उपर लेट गया और उनके स्तन चूमने शुरू कर दिये। मैंने उनके निप्पलों को दूध पीते बच्चे की तरह चूसा।

मेरी मम्मी स्माइली चेहरे के साथ मुझे देख रही थी और अपने सारे प्यार से मेरे बालों को सहला रही थी।

फिर मैं थोड़ा नीचे आया और उनकी नाभि को चाटने लगा।

उन्होंने अपने दोनों हाथों को मेरे सिर के पीछे रख दिया और जोर से अपने पेट की ओर दबाया।

मैंने धीरे से उनकी चूत को छुआ और उंगलियों से उसे रगड़ने लगा।

पहली बार मैंने अपनी मम्मी को थोड़ा सिसकारते हुए सुना।
इससे मुझे और खुशी मिली।

मैंने अपनी बीच की उंगली उनकी चूत के अंदर घुसा दी। उनकी चूत गर्म और रसीली थी।
मैं अपनी उंगली उनकी चूत के अंदर तक घुमाने लगा।

वह कराहने लगी।

मैंने उनकी चुत में उंगली अंदर बाहर करना शुरू कर दिया और वो और भी जोर जोर से कराहने लगी।

मैं उनके पेट को चाट रहा था और साथ में उसकी चूत में उंगली कर रहा था।

तब मैंने धीरे से मेरे होंठ से उनकी चूत को धीरे से चूम लिया और मम्मी के चेहरे की तरफ देखने लगा।

उनका चेहरा पसीने से भीग गया था। उन्होंने बस अपनी आँखें बंद कर ली और इन सबका आनंद लेने लगी।

फिर मैंने अपनी जीभ उनकी चूत के अंदर घुसा दी और उनकी चूत के होंठों को अपने होंठों से छू लिया।
मम्मी मेरे सर को अपनी चूत में दबाने लगी।

मैंने 15 मिनट तक उनकी चूत को चाटा और किस किया। उनकी चूत काफी गीली हो गई थी।

फिर मम्मी उठकर बिस्तर पर बैठ गई ओर मुझे धक्का देकर बिस्तर पर लेटाकर मेरे घुटनों पर बैठ गई।
वो मेरे लंड को धीरे से छूने लगी।

मम्मी ने अपने एक स्तन को मेरे लण्ड के ऊपर रखा और मेरे लण्ड को अपने निप्पल के चारों ओर घुमाने लगी।

फिर उन्होंने मेरा लण्ड अपने मुंह में रखा, उसे अपने सुंदर होंठों से चूमा और फिर धीरे से मेरा प्रीकम चाट लिया।

उन्होंने फिर अपने हाथों से मेरे अण्डकोषों को छुआ और धीरे-धीरे उन्हें सहलाना शुरू कर दिया।
फिर उन्होंने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसने लगी।

मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं स्वर्ग में हूं।

मैंने अपनी मम्मी के सिर को अपने लण्ड की तरफ झुकाया और मेरा लण्ड उनके गले में गहराई तक उतर गया।

उन्होंने 5 मिनट तक मेरा लण्ड चूसा और मेरे लंड को हाथों से सहलाया।
फिर उन्होंने धीरे अपनी खूबसूरत क्लीन शेव्ड गुलाबी चूत को मेरे लण्ड के पास रखा।
उन्होंने मेरा चेहरा देखा और मुस्कुरा दी।

मम्मी ने धीरे से मेरा लंड अपनी चूत के छेद पर रगड़ा और मेरे लंड के ऊपरी भाग को अपनी चूत में घुसाया और अपनी गांड को हिलाना शुरू कर दिया।

वह झुकी और उन्होंने मेरे सीने को चूम लिया. फिर गर्दन और फिर मुंह को चूमने लगी.

जब तक कि मेरा पूरा लण्ड उनकी चूत में समा गया।
फिर वह समुद्र में उठती लहर की तरह अपने शरीर को मेरे शरीर के ऊपर हिलाने लगी। उनके स्तन मेरी छाती पर उछल रहे थे।

वो कराहने लगी और अपना पूरा शरीर मेरे शरीर से रगड़ने लगी। उनकी गर्म साँसें मेरे चेहरे से टकरा रही थी।

उन्होंने 15 मिनट तक मुझे चोदना जारी रखा और फिर मैं उनके अंदर झड़ने लगा।
मेरा सारा माल अंदर लेने के बाद वो मेरे ऊपर गिर पड़ी और अपना सर मेरे सीने पर टिका दिया।

हम दोनों वहीं लेटे थे और जोर से सांस ले रहे थे।

मेरी मम्मी ने अपने दोनों हाथों से मुझे पुचकारा, बाद में उन्होंने एक खूबसूरत मुस्कान दी।

नैंसी- विकी, क्या यह तुम्हारा पहली बार है?
मैं- हाँ, मॉम!

नैंसी- तुम्हारी मम्मी के साथ ये सब करने की तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई?
मैं चौंक गया। मैं नहीं जानता कि मैं क्या कहूं।

मैं- सॉरी मॉम! मेरा आपके बारे में ऐसा कोई इरादा नहीं है। मैंने बस आपको उत्साह में गले लगाया था। मैं नहीं जानता था की यह सब इस तरह खत्म होगा।
नैंसी- हा हा हा … मेरे भोले छोटे बेटे को उसकी मम्मा से गिफ्ट मिल गया आज।
और उन्होंने मेरे माथे पर चूम लिया।

नैंसी- इसे हमारे एक राज की तरह रखना। किसी को भी इस बारे में जानकारी नहीं मिलनी चाहिए और यह मत भूलो कि यह बस एक बार की बात है।
मैं- मैं आपसे वादा करता हूँ मॉम! मैं कभी किसी को नहीं बताऊँगा।

अचानक मेरी मम्मी का फ़ोन बजा।
उन्होंने फोन लिया और कहा- शश…! तुम्हारे पापा का कॉल है, चुप रहो।

वह बगल में लेट गई और फोन उठा लिया।
जब वह मेरे पिताजी के साथ बात कर रही थी, मैं अचानक उनकी पैरों के बीच बैठ गया और उनकी चूत चाटने लगा।

उन्होंने अपना मुंह खोला और मुझे दूर करने की कोशिश की। लेकिन मैंने उनकी चूत को जोर से चाटना जारी रखा।

जब मैं उनकी चूत चाट रहा था तब वह पिताजी के साथ ठीक से बात करने में सफल रही।

थोड़ी देर बाद उन्होंने अपना फोन काट दिया।
उन्होंने मुझे अपने दोनों हाथों से यह कहते हुए पकड़ लिया- तुम बहुत शरारती लड़के हो।

मम्मी ने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और अपनी चूत मेरे मुँह पर रख दी।

मेरा चेहरा पूरी तरह से उनकी गांड की दरार के अंदर था, और मेरा मुँह और नाक उसकी चूत के अंदर थी और वो मेरा लंड चूसने लगी।

हम 69 की स्थिति में थे। मेरा चेहरा उनकी चूत और गांड से पूरी तरह से ढका हुआ था। मैं सांस नहीं ले पा रहा था।

वो जोर जोर से मेरे चेहरे पर अपनी गांड रगड़ने लगी। उन्होंने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया।

सांस ना ले पाने के कारण में तड़पने लगा और अपने हाथ पैर बिस्तर पर पटकने लगा।

अचानक मम्मी ने मेरे लंड को जोर से काट लिया और मैंने उन्हें खुद से दूर धकेल दिया।

मैं बेहोश हो गया और मेरा शरीर कोई हिलाने लगा।

मैंने अपनी आँखें खोली और अचानक सब कुछ काला हो गया। मैं हांफ रहा था और रो रहा था। मेरा शरीर पसीने से भीग गया था।

तभी मैंने अपनी मम्मी की आवाज़ सुनी- विकी, क्या तुम ठीक हो बेबी? क्या हुआ हनी? क्या तुम मुझे सुन सकते हो?

मैं उलझन में था और मैंने अपने बगल में देखा।
मेरी मम्मी मेरे बगल में बैठी थी। हम दोनों नंगे थे और उन्होंने अपने दोनों हाथ मेरे कंधों पर रख दिए और मुझसे पूछा- क्या हुआ?

तब मुझे महसूस हुआ कि हमने जो कुछ भी किया, वह सिर्फ एक सपना था।

नैंसी- विकी … मुझे उत्तर दो, क्या हुआ? क्यों चिल्ला रहे हो?
मैं- मुझे एक बुरा सपना आया, मॉम!

मेरी मम्मी ने मेरा सर अपने दोनों हाथों से पकड़ कर अपने नंगे कंधे पर रखा और बोली- कूल हनी, कुछ नहीं हुआ। तुम ठीक हो। मम्मा तुम्हारे साथ हैं।

उन्होंने मुझे पीने के लिए थोड़ा पानी दिया और मुझे बिस्तर पर लेटा दिया।

मम्मी भी मेरे काफी पास आकर लेट गयी और मेरे सीने पर हाथ रख कर कहा- सब कुछ ठीक है हनी! तुमने बस एक बुरा सपना देखा था। घबराओ मत। बस सो जाओ।

मुझे बहुत बुरा लगा कि यह सिर्फ एक सपना था। लेकिन यह बहुत अच्छा सपना था जब हम दोनों नग्न थे।

मेरी मम्मी मेरे काफी करीब थी, उन्होंने मुझे खूब लाड़ किया और अपना हाथ मेरे ऊपर रख कर मेरे सीने ओर पेट को सहलाने लगी।

मेरा पेट मेरे वीर्य से गीला था जो कि सपने में मम्मी को चोदते समय मैंने सच में बहा दिया था। मम्मी को और मुझे दोनों को इस बात का अनुभव हुआ कि मेरा पेट गीला और चिपचिपा है, पर मम्मी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और उसी तरह मुझे सहलाना जारी रखा।

उनके गीले हाथ ने मुझे सीने तक मेरे वीर्य से मल दिया और कुछ समय बाद वह सूख गया और मम्मी के लाड़ ने मुझे सुला दिया था।

मुझे अपने रिजल्ट के बारे में अपने मित्र से कोई फ़ोन कॉल नहीं आया था। यह सिर्फ एक सपना था।
मैं उम्मीद रखता हूँ कि कहानी के अंत तक मेरा सपना सच होगा या नहीं।

यह मेरी मम्मी का नग्न शरीर ही था जिसने मुझे उत्तेजित कर दिया था और मुझे इस तरह का सपना दिखा दिया।

यह मेरे लिए सबसे ख़ूबसूरत दौर था, जहाँ मैंने मम्मी के साथ पूरी तरह से नग्न होकर दो रातें बिताईं थी।
वह पहली महिला थी जिसे मैंने अपने जीवन में वास्तविक रूप से नग्न देखा। और अब मेरे पास एक सुंदर सपना है।

मॉम एंड सन सेक्स कहानी की इस सीरीज को यही रोकता हूं। आशा करता हूँ कि आपको ये कहानी पसंद आई होगी।

Leave a comment